Breaking News
धामी सरकार ने अग्निवीरों के लिए सरकारी नौकरी के खोले दरवाजे
बांग्लादेश में आरक्षण विरोधी हिंसा भड़कने के बाद लगा सख्त कर्फ्यू, लोगों का भारत लौटने का सिलसिला जारी 
सीएम धामी ने ‘एक पेड़ मां के नाम’ अभियान के तहत अपनी माता के साथ किया पौधारोपण
कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने गुरु पूर्णिमा के अवसर पर अपनी माता और गुरुजनों का लिया आशिर्वाद 
‘2075 तक अमेरिका को पछाड़ देंगे हम, तेजी से आगे बढ़ रही भारत की अर्थव्यवस्था’- पीएम मोदी
पीएम मोदी के X पर 10 करोड़ फॉलोअर्स होने पर एलन मस्क ने दी बधाई, पढ़ें पोस्ट में क्या कहा
गौरीकुंड-केदारनाथ पैदल मार्ग पर हुआ बड़ा हादसा, तीन तीर्थयात्रियों की हुई मौत
गढवाली सुपर नेचुरल थ्रिलर फिल्म असगार के प्रीमियर के लिए जुटी दर्शकों की भारी भीड़
सीएम ने मेधावी छात्र-छात्राओं को किया सम्मानित 

हल्के में ना लें सिरदर्द, हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां, जानें राहत पाने के उपाय

सिरदर्द एक आम समस्या मानी जाती है लेकिन अगर इससे ज्यादा दिन से परेशान हैं तो सावधान हो जाइए, क्योंकि जब कई दिनों तक सिरदर्द ठीक न हो तो वह गंभीर रूप भी ले सकती है। इसका कारण कई खतरनाक बीमारी भी हो सकती है। ऐसे में डॉक्टर के पास जाने की नौबत आ सकती है। इसलिए सिरदर्द को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। आइए जानते हैं सिरदर्द के क्या कारण हो सकते हैं और इससे बचने के लिए क्या करना चाहिए…

सिरदर्द का गंभीर कारण

बुखार के साथ सिरदर्द
कई बार बुखार के साथ सिरदर्द या गर्दन में अकडऩ की वजह से भी होती है। यह इंसेफेलाइटिस या मेनिन्जाइटिस के संकेत भी हो सकते हैं। जिसे दिमागी बुखार या मस्तिष्क ज्वर भी कहा जाता है। यह एक संक्रामक बीमारी है, जिसमें मेनिन्जेस में सूजन आ जाती है. इस तरह का सिरदर्द खतरनाक भी हो सकता है. ऐसे लोग जिन्हें डायबिटीज या उनकी इम्यूनिटी कमजोर है, उनके लिए यह जानलेवा भी हो सकती है. इसलिए समय रहते इसका इलाज करवाना चाहिए।

माइग्रेन या क्लस्टर हेडेक
क्लस्टर हेडेक या माइग्रेन से होने वाला सिरदर्द अलग होता है। माइग्रेन की वजह से सिर के किसी एक हिस्से में काफी तेज दर्द होता है. इसमें उल्टी या मिचली भी आती है। कई बार यह दर्द इतना ज्यादा होता है कि नींद खुल जाती है. यह समस्या 20 से 50 साल की उम्र वालों में ज्यादा देखने को मिलता है। कई बार ब्रेन ट्यूमर, स्लीप एपनिया और हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों की वजह से भी सिरदर्द होता है।

स्ट्रेस की वजह से सिरदर्द
स्ट्रेस यानी तनाव की वजह से भी सिरदर्द की समस्या होती है। इसमें सिरदर्द अचानक से होता है और फिर खुद से ही ठीक हो जाता है। हालांकि, तनाव से होने वाले दर्द में कोई दूसरा लक्षण नहीं दिखाई देता लेकिन इसे भी हल्के में नहीं लेना चाहिए।

थंडर क्लैप सिरदर्द
थंडरक्लैप सिरदर्द काफी गंभीर बीमारी है. इसमें कुछ ही सेकेंडस में ही तेज दर्द होने लगता है। कई बार स्ट्रोक, आर्टरीज के डैमेज होने या सिर में चोट की वजह से भी दर्द हो सकता है. कई बार ये दर्द सिर से पीठ की तरफ बढ़ जाता है और कई-कई घंटों तक बना रहता  है। थंडर क्लैप सिरदर्द की वजह से मिचली, बेहोशी और चक्कर आने की समस्याएं हो सकती हैं। हाई ब्लड प्रेशर वालों को यह दर्द ज्यादा परेशान कर सकता है।

साइनस सिरदर्द
सिर में साइनस या कैविटी में सूजन आने के कारण भी कई बार सिर में तेज दर्द होता है। यह दर्द लगातार होता रहता है। इसमें सिरदर्द के अलावा नाक के ऊपरी हिस्से या गाल की हड्डी पर भी दर्द हो सकता है। इसकी वजह से चेहरे पर सूजन, कान बंद होना, बुखार और नाक बहने जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

आंखों की बीमारी से सिरदर्द
आंखों का धुंधलापन, रेटिना की प्रॉब्लम्स या आंखों की दूसरी समस्याओं की वजह से भी सिर दर्द बहुत तेज होता है। अगर आंखों की रोशनी कम है तो भी सिरदर्द की समस्या हो सकती है. ऐसे में डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

सिरदर्द के ये कारण भी

  1. 50 साल या उससे ज्यादा उम्र वालों में शारीरिक बदलाव की वजह से कमजोरी होती है और इससे भी सिरदर्द हो सकता है।
  2. कुछ महिलाओं को मेनोपॉज के दौरान सिरदर्द होता है।
  3. चाय-कॉफी पीने की आदत है तो कैफीन की लत पड़ जाती है, जब ये न मिले तो सिरदर्द होने लगता है।
  4. ज्यादा शराब पीने या डिहाइड्रेशन से भी सिरदर्द हो सकता है।
  5. नींद पूरी न होने से से भी सिर दर्द करता रहता है।

सिरदर्द से राहत पाने के उपाय
1. सीडीसी की रिसर्च के अनुसार, डिहाइड्रेशन की वजह से भी सिरदर्द या माइग्रेन की समस्या हो सकती है. इसलिए तेज सिरदर्द करने पर पानी पीना चाहिए।
2. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, मैग्नीशियम की कमी से भी सिरदर्द हो सकता है, इसलिए खानपान में इसे शामिल करें।
3. अच्छी और पूरी नींद लेकर भी सिरदर्द से राहत पा सकते हैं।
4. एसेंशियल ऑयल से भी सिरदर्द में फायदा मिल सकता है।
5. सिर दर्द होने पर हर्बल उपाय अपना सकते हैं।
6. लगातार और तेज सिरदर्द होने पर डॉक्टर को दिखाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top