Home ब्लॉग राजनीतिक दलों पर नकेल लगाना जरूरी

राजनीतिक दलों पर नकेल लगाना जरूरी

अनूप भटनागर

अब समय आ गया है कि सत्ता पर काबिज होने के लिए विकास की बजाय मतदाताओं को मुफ्त बिजली-पानी, कंप्यूटर, स्कूटी और साइकिल के साथ ही मासिक भत्ता देने जैसे आर्थिक वादों को जनप्रतिनिधित्व कानून के तहत भ्रष्ट आचरण के दायरे में शामिल किया जाए। लोकतांत्रिक प्रक्रिया से भ्रष्टाचार मिटाने का जोर-शोर से वादा करने वाले राजनीतिक दलों को इस दिशा में पहल करनी होगी और केन्द्र सरकार को मुफ्त रेवडिय़ां देने जैसे चुनावी वादों को भ्रष्ट आचरण के दायरे में शामिल करने के लिए जनप्रतिनिधित्व कानून में संशोधन करना होगा।
देश और प्रदेश के विकास तथा जन कल्याण की योजनाएं बनाने और उन पर अमल करने की बजाय आज राजनीतिक दल चुनावी वादों में मतदाताओं को प्रलोभन दे रहे हैं। सत्ता में आने पर कोई भी दल इस तरह के प्रलोभन देने वाले वादों पर अमल करता है तो इससे प्रदेश के राजस्व को ही नुकसान होगा और इससे विकास कार्यों में बाधा पड़ेगी।
ऐसी स्थिति से बचने के लिए जनप्रतिनिधित्व कानून में संशोधन करके यह प्रावधान करने पर विचार होना चाहिए कि चुनाव के बाद सत्ता पर काबिज होने वाला दल अगर ऐसे आर्थिक प्रलोभन वाले चुनावी वादों पर अमल करता है तो इससे होने वाले राजस्व के नुकसान के एक हिस्से की भरपाई सत्तारूढ़ दल को करनी होगी, जिसमें प्रलोभन देकर मतदाताओं को लुभाने की प्रवृत्ति पर अंकुश संभव हो सकेगा।

पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और गोवा की जनता से इस समय किये जा रहे चुनावी वादे इस बात का संकेत हैं कि देश की राजनीति में लोकतांत्रिक मूल्यों का तेजी से ह्रास हो रहा है। राजनीतिक दलों से सवाल पूछा जाना चाहिए कि प्रदेश की जनसंख्या और राजस्व की स्थिति के मद्देनजर इन वादों को कैसे पूरा किया जायेगा और इन पर प्रतिवर्ष कितना खर्च आएगा और प्रदेश की जनकल्याण योजनाओं का क्या होगा?
मतदाताओं को मुफ्त में रेवडिय़ां देने के साथ ही अब मासिक भत्ता देने जैसे वादे समाज के सभी वर्गों को आकर्षित और प्रभावित करते हैं। लेकिन हमें यह भी सोचना होगा कि ऐसे वादे लोकतंत्र की पवित्रता को प्रभावित करने के साथ ही स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने की प्रक्रिया को खोखला कर रहे हैं।

चुनाव घोषणा पत्रों में जनता से किये जा रहे वादे इस समय जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 123 के तहत भ्रष्ट आचरण के दायरे में नहीं हैं, लेकिन अगर आपराधिक पृष्ठभूमि वाले लोगों को चुनाव प्रक्रिया से दूर रखने की तरह ही चुनाव प्रक्रिया को भ्रष्टाचार से मुक्त कराना है तो इसके लिए इस प्रवृत्ति पर अंकुश लगाना जरूरी है।
इस समस्या पर देश की शीर्ष अदालत भी चिंता व्यक्त कर चुकी है और उसने करीब आठ साल पहले जुलाई, 2013 में अपने फैसले में कहा था कि मुफ्त रेवडिय़ां बांटने के वादे करने वाले राजनीतिक दलों को नियंत्रित करने के लिए अलग से कानून बनाने पर विचार किया जा सकता है।
विडंबना है कि देश की लोकतांत्रिक प्रक्रिया को पूरी तरह स्वच्छ और पवित्र बनाये रखने की जो जिम्मेदारी राजनीतिक दलों की है, उसे न्यायपालिका पूरा कराने का प्रयास कर रही है।

लोकतांत्रिक प्रक्रिया को अपराधीकरण, बाहुबल और धनबल से मुक्त कराने में न्यायपालिका ने काफी हद तक सफलता पा ली है लेकिन अभी भी चुनाव सुधारों की दिशा में काफी कुछ करने की जरूरत है। निर्वाचन आयोग और न्यायपालिका इस दिशा में प्रयास भी कर रही है लेकिन राजनीतिक लाभ-हानि को ध्यान में रखते हुए कई मुद्दों पर सर्वदलीय बैठकों में राष्ट्रीय और राज्य स्तर के मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों की इन पर आम सहमति नहीं बन पा रही है। न्यायपालिका की सख्त टिप्पणियों के बावजूद राजनीतिक दलों में देश और प्रदेश के प्राकृतिक संसाधनों और राजस्व को हानि पहुंचाने वाले वादे करके मतदाताओं को प्रलोभन देने की होड़ लगी है।
न्यायालय ने 2013 में निर्वाचन आयोग को निर्देश दिया था कि चुनाव की घोषणा के साथ ही लागू होने वाली आदर्श आचार-संहिता में अलग से राजनीतिक दलों के घोषणा-पत्रों के संबंध में भी प्रावधान किया जाये।

न्यायालय के निर्देश के बाद निर्वाचन आयोग ने आदर्श आचार-संहिता में एक नया उपबंध शामिल किया, जिसमें मतदाताओं को प्रभावित करने वाली तमाम घोषणायें करने पर प्रतिबंध लगाए गए थे। लेकिन राजनीतिक दलों पर इसका कोई असर नहीं हुआ और वे आज भी मुफ्त सुविधाएं देने ही नहीं, बल्कि मासिक भत्ता देने जैसे वादे कर रहे हैं।
मतदाताओं को आकर्षित करने के लिये टेलीविजन, मंगलसूत्र, प्रेशर कुकर और ऐसी ही दूसरी वस्तुएं देने के वादे का सिलसिला 2006 में तमिलनाडु से शुरू हुआ। इसके बाद मतदाताओं को आईफोन देने, घर देने जैसे भी वादे किये जाने लगे। लेकिन धीरे-धीरे यह बीमारी दूसरे राज्यों में भी फैल रही है और यहां मतदाताओं को लुभाने के लिए बिजली-पानी, स्कूटी, लैपटॉप और महिलाओं को एक हजार रुपये महीने का भत्ता, महिलाओं को नि:शुल्क यात्रा और वरिष्ठ नागरिकों को मुफ्त तीर्थ यात्रा कराने तक के वादे किये जा रहे हैं। अब इस बीमारी का इलाज जनप्रतिनिधित्व कानून में संशोधन ही नजर आता है।

RELATED ARTICLES

दोनों देशों के रिश्ते और होंगे प्रगाढ़

अजय दीक्षित प्रधानमंत्री मोदी की तीन दिवसीय ऑस्ट्रेलिया यात्रा से दोनों देशों के वीच द्विपक्षीय रिश्ते और रणनीतिक साझेदारी और अधिक मजबूत हुए हैं। नई...

एवरेस्ट भी जलवायु परिवर्तन का मारा

इंसान ने 70 पहले दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर विजय पताका फहराई थी। लेकिन अब वहा भी जलवायु परिवर्तन का संकट है। गुजरे...

कब शांत होगा मणिपुर?

बेशक कहा सकता है कि आरंभ में केंद्र सरकार मणिपुर में विस्फोटक हो चुकी हालत का सटीक जायजा लेने में नाकाम रही। वरना, अब...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पंडित धीरेंद्र शास्त्री पहुंचे बद्रीनाथ धाम, मंदिर समिति की ओर से किया गया स्वागत

देहरादून। बागेश्वर धाम के मुखिया पंडित धीरेंद्र शास्त्री भगवान बद्रीविशाल  के दर्शन करने पहुंचे। कड़ी सुरक्षा के बीच बद्रीनाथ धाम पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री का मंदिर...

सीएम से मिले ओलंपिक वर्ल्ड समर गेम्स में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में स्पेशल ओलंपिक वर्ल्ड समर गेम्स में प्रतिभाग करने के लिए जा रहे खिलाड़ियों...

अनूठी पहल :- खुद अपना टिफिन लेकर पहुंचे थे CM धामी, जमीन पर बैठकर कार्यकर्ताओं संग किया भोजन

चंपावत दौरे में सीएम धामी की पहल से कार्यकर्ता उत्साहित चंपावत। सीएम पुष्कर सिंह धामी के इस बार के चंपावत दौरे में अनोखी पहल देखने को...

केदारनाथ धाम दर्शन करने पहुंचे प्रसिद्ध क्रिकेटर इशांत शर्मा

रुद्रप्रयाग। प्रसिद्ध क्रिकेटर इशांत शर्मा आज पूर्वाह्न श्री केदारनाथ भगवान के दर्शन को पहुंचे। मंदिर में पूजा-अर्चना की। मंदिर में पूजा-अर्चना की। श्री बदरीनाथ- केदारनाथ...

बिलासपुर में दो बच्चों ने हाथों के बल चलकर 1,265 मीटर लंबी सुरंग को पार करके दिया नशामुक्ति का संदेश

हिमाचल प्रदेश। बिलासपुर में दो बच्चों ने हाथों के बल चलकर (हैंड स्टैंड वाॅक) 1,265 मीटर लंबी सुरंग पार कर नशामुक्ति का संदेश दिया। किरतपुर-नेरचौक...

प्रदेश में बेमौसमी बारिश से फसलों के नुकसान का मुआवजा देगी सरकार, प्रति हेक्टेयर 17 हजार रुपये देने की व्यवस्था

देहरादून। प्रदेश में बेमौसमी बारिश से कृषि और बागवानी फसलों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। दोनों विभागों ने नुकसान की रिपोर्ट शासन को भेजी...

हवा में उड़ते आउटफिट में मलाइका ने कराया बोल्ड फोटोशूट, फोटो से नजरें नहीं हटा पा रहे फैंस

बॉलीवुड एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा हमेशा अपने बोल्ड और ग्लैमरस लुक्स से सोशल मीडिया का पारा बढ़ानें में लगी रहती हैं। एक्ट्रेस 49 साल की...

सुदि त क्वी न दिखदू कै सनि, क्वी त बात होली ये मा

– चमकता धामी का चंपावत, फीके पड़े पूर्व सीएम के सभी गांव – अपने गुरु भगतदा से भी आगे निकले सीएम धामी देहरादून। सीएम पुष्कर सिंह धामी...

दोनों देशों के रिश्ते और होंगे प्रगाढ़

अजय दीक्षित प्रधानमंत्री मोदी की तीन दिवसीय ऑस्ट्रेलिया यात्रा से दोनों देशों के वीच द्विपक्षीय रिश्ते और रणनीतिक साझेदारी और अधिक मजबूत हुए हैं। नई...

एचआईवी, हैपेटाइटिस-बी, हैपेटाइटिस-सी का पता लगाने में तीनों मार्कर बड़े कारक

श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के माइक्रोबायलाॅजी विभाग की ओर से एक दिवसीय सीएमई कार्यक्रम का आयोजन माइक्रोबायोलाॅजिस्ट ने एक मंच पर सांझा की एचआईवी और...