Breaking News
धामी सरकार ने अग्निवीरों के लिए सरकारी नौकरी के खोले दरवाजे
बांग्लादेश में आरक्षण विरोधी हिंसा भड़कने के बाद लगा सख्त कर्फ्यू, लोगों का भारत लौटने का सिलसिला जारी 
सीएम धामी ने ‘एक पेड़ मां के नाम’ अभियान के तहत अपनी माता के साथ किया पौधारोपण
कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने गुरु पूर्णिमा के अवसर पर अपनी माता और गुरुजनों का लिया आशिर्वाद 
‘2075 तक अमेरिका को पछाड़ देंगे हम, तेजी से आगे बढ़ रही भारत की अर्थव्यवस्था’- पीएम मोदी
पीएम मोदी के X पर 10 करोड़ फॉलोअर्स होने पर एलन मस्क ने दी बधाई, पढ़ें पोस्ट में क्या कहा
गौरीकुंड-केदारनाथ पैदल मार्ग पर हुआ बड़ा हादसा, तीन तीर्थयात्रियों की हुई मौत
गढवाली सुपर नेचुरल थ्रिलर फिल्म असगार के प्रीमियर के लिए जुटी दर्शकों की भारी भीड़
सीएम ने मेधावी छात्र-छात्राओं को किया सम्मानित 

पीएम मोदी आज वाराणसी में 50 हजार किसानों से करेंगे संवाद

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 जून यानि आज अपने वाराणसी दौरे पर 50 हजार किसानों से संवाद करेंगे। भाजपा के काशी क्षेत्र के प्रमुख दिलीप पटेल ने यह जानकारी दी। प्रधानमंत्री मेहंदीगंज क्षेत्र में किसान सम्मेलन स्थल पर 21 किसानों से व्यक्तिगत रूप से मिलेंगे और उनके कृषि उत्पादों को भी देखेंगे।

किसानों से संवाद करने से पहले प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त जारी करेंगे। प्रधानमंत्री के रूप में तीसरी बार शपथ लेने के बाद पीएम मोदी का यह पहला वाराणसी दौरा होगा। इस अवसर पर प्रधानमंत्री 30 हजार कृषि सखियों को सम्मानित भी करेंगे। इनमें से पूर्वी उत्तर प्रदेश की पांच महिला किसानों को वह मंच पर प्रमाणपत्र सौंपेंगे।

पीएम दोपहर यहां पहुंचने के बाद मेहंदीगंज में किसानों की बैठक को संबोधित करेंगे। इसके बाद वह काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना करने और दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में शामिल होने के लिए रवाना होंगे। बुधवार सुबह वह दिल्ली लौट जाएंगे। पुलिस आयुक्त मोहित अग्रवाल और मंडलायुक्त कौशल राज शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री के प्रस्तावित दौरे की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल होंगे।

काशी क्षेत्र के भाजपा अध्यक्ष पटेल ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी का हर-हर महादेव के नारे के साथ गर्मजोशी से स्वागत किया जाएगा। दूरदराज के गांवों से किसान बसों, ट्रैक्टरों और चार पहिया वाहनों से सम्मेलन में पहुंचेंगे, जबकि आसपास के इलाकों से किसान ढोल-नगाड़ों के साथ पैदल मार्च कर किसान सम्मेलन में शामिल होने आएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top